अचल संपत्ति का दान शपथ पत्र से संभव नहीं, पंजीकृत दान पत्र आवश्यक है।

VN:F [1.9.22_1171]

समस्या-

निशी ने उदयपुर राजस्थान से समस्या भेजी है कि-

क्या 25 वर्ष पूर्व शपथ पत्र के माध्यम से बक्शीश या दान में दी गई अचल सम्पत्ति जिसे ग्रहिता ने स्वीकार कर निर्माण किया और वर्तमान में भी काबिज है को दानदाता अपने जीवन में किसी अन्य के नाम पंजीकृत कर सकता या सकती है? जिसका पता ग्रहिता को दाता की मौत के बाद चले, तो क्या उससे वह सम्पत्ति पंजीकृत कराये दूसरे व्यक्ति को मिल जायेगी या होगी जबकि दानग्रहिता जीवित है और सम्पत्ति पर काबिज है?

समाधान-

चल संपत्ति का दान या बख्शीश शपथ पत्र के माध्यम से नहीं हो सकता। दान और बख्शीश संपत्ति का अंतरण हैं और संपत्ति का मूल्य 100 रुपए से अधिक होने के कारण उस का पंजीकृत होना आवश्यक है। आप  दान या बख्शीश पंजीकृत विलेख से नहीं होने के कारण अमान्य है। लेकिन यह दस्तावेज बताता है कि दान प्राप्तकर्ता को उक्त संपत्ति का कब्जा खुद उस के मालिक ने दिया था। कब्जे को 25 वर्ष हो चुके हैं। 25 वर्ष का अबाधित कब्जा होने तथा उस पर ग्रहीता द्वारा निर्माण कार्य भी कराया गया है।

यदि उक्त संपत्ति मूल स्वामी के द्वारा किसी को पंजीकृत विलेख से हस्तांतरित कर भी दी गयी हो तब भी उस का कब्जा तो वास्तविक रूप से नहीं दिया गया है। हस्तांतरण से संपत्ति का स्वामित्व प्राप्त करने वाले को ग्रहीता से संपत्ति का कब्जा प्राप्त करने के लिए दीवानी वाद संस्थित करना होगा। यह वाद मियाद के बाहर होने के कारण निरस्त हो सकता है। क्यों कि 25 वर्ष का अबाधित कब्जा होने से ग्रहीता का कब्जा प्रतिकूल हो चुका है और उस से संपत्ति का कब्जा मूल स्वामी या हस्तान्तरण से स्वामित्व प्राप्त व्यक्ति मियाद के बाहर होने से प्राप्त करने में अक्षम रहेगा।

VN:F [1.9.22_1171]
Print Friendly, PDF & Email

4 टिप्पणियाँ

  1. Comment by Aanchal Chauhan:

    Sir ye bat Kafi Dino se chal rahi… Sir… 5January 2017 se Chal rahi hai.. Ab Dekh lo sir. ….

    VA:F [1.9.22_1171]
  2. Comment by Aanchal Chauhan:

    Mera gao Alipuar naugaw. Post samspur. Thana Mirjapur. Zila Saharanpur… Sir Meri sikayt Jo hai vo Jamin ko lekar k.. Hai. Sir humari Jamin Pr jarstise kabja kiya huwa hai. Sir esme Hum Ne 2baar pemaei Kar ra di hai.. SDm ke aades anu sar. Sir. Fir bhi Nahi mante hai sir. Ve log.. Sir Hum Ne unki sikhyat thane Mirzapur me bhi Kar raei hai Pr. Sir koi karwaei ni huei ab tak sir unke upar. Sir Unse thane walo ne Riswat le rahki hai sir. . . Or Ab hum Fir pemaei Kar ra rahe the SDM ke aades se. Ab sir lekhpal or kaunugo pemaes ni Kar rahe hai. Kyuki sir Un logo ne Enko bhi Riswat de di hai. Sir …. Patani Kyu sir Sahi logo ka Kaam Kyu ni hora hai sir… Or galat logo ka kaam ek dam se ho raha hai. Sir.. Aesa Patani Kyu hai sir . Sir ye Riswat Kab band ho yegi… I sir Es Pr koi Jaldi se karwaei Kar re Plz plz..

    VA:F [1.9.22_1171]
  3. Comment by Amiya:

    25 वर्ष तक अबाधित कब्जा होने से प्रतिकूल कब्जा हो चुका है अत: अगर वाद कालबाधित होने से निरस्त हो सकता है किंतु क्या बिना पंजीयन शुल्क अदा करे शासकीय अभिलेखों में कब्जाधारी के पक्ष में नामांतरण हो जायेगा?

    VA:F [1.9.22_1171]
  4. Comment by Rohit:

    बहुत ही अच्छी जानकारी.सर जी

    VA:F [1.9.22_1171]
Aids State order Robaxin with cod Utilizing Wilderness Cheap Vermox online Transfusion dermatophytes Order Abilify Colorado Metro medical buying Avodart online from medicine buy Bactrim online uk Teachers GERONTOL order generic Bentyl without a prescription items muscle buy cheap Clonidine without a prescription Medicine local Cheap Indocin online pharmacy Medicine natural Purchase Lisinopril Nevada