नव वर्ष आप के जीवन में अनन्त खुशियाँ लाए …

VN:F [1.9.22_1171]

मित्रों और पाठकों!

वर्ष 2014 के आखिरी दिन तीसरा खंबा के सर्वर में समस्या आ जाने से आप सभी को परेशानी हुई।  समस्या कुछ गंभीर थी और उसे समझने में कुछ समय लगा जिस के कारण साइट को आरंभ होने में कुछ देरी हुई। लेकिन अब यह समस्या दूर हो गई है। हम आशा करते हैं कि निकट भविष्य में इसे इस तरह की कोई समस्या नहीं होगी।

तीसरा खंबा ब्लागस्पॉट के एक ब्लाग के रूप में आरम्भ हुआ था। 1 जनवरी 2012 को इसे इस साइट में बदला गया। यह रूप धारण करने के बाद इस के पाठकों में तेजी से वृद्धि हुई। इन तीन वर्षों में इसे सात लाख से अधिक पाठक मिले हैं। यह हिन्दी की किसी भी अव्यवसायिक साइट के लिए जिसे दो व्यक्ति मिल कर अपने खुद के संसाधनों से चला रहे हों एक कीर्तिमान हो सकता है।

इस साइट के संचालक इस माह अपने निजि पारिवारिक कारणों से व्यस्त रहेंगे। जिस के कारण हो सकता है कि पाठकों की कुछ जटिल समस्याओं को हल मिलने में देरी हो। हालाँ कि हमारा पूरा प्रयत्न होगा कि हमेशा की तरह कम से कम एक पाठक की समस्या का हल प्रतिदिन प्रस्तुत किया जाए। हमारी इस गति के कारण हम अनेक पाठकों की समस्याओं का हल प्रस्तुत करना चाहते हुए भी नहीं कर पाते। इस का कारण संसाधनों की कमी है। हम तीसरा खंबा के लिए संसाधन जुटाना चाहते हैं और उस के लिए प्रयासरत भी हैं। हो सकता है हम अगले दो तीन माह में इस स्थिति में आ सकें कि हम प्रतिदिन एक से अधिक पाठकों को समाधान प्रस्तुत कर सकें।

बहुत से पाठक चाहते हैं कि उन की समस्या का समाधान तुरन्त दिया जाए। अनेक पाठकों की यह इच्छा रहती है कि उन की समस्या का समाधान प्रस्तुत करने के बाद भी वे हम से लगातार मार्गदर्शन प्राप्त करते रहें। लेकिन फिलहाल यह संभव नहीं है। हिन्दी भाषा मे इस काम को करने में बहुत चुनौतियाँ हैं। सब से पहले तो हमें समस्या देवनागरी हिन्दी में प्राप्त नहीं होतीं। वे अंग्रेजी या रोमन लिपि में होती हैं। हमें उन्हें देवनागरी हिन्दी रूप देना पड़ता है।  भारत में सारा केन्द्रीय कानून अंग्रेजी में तो इंटरनेट पर उपलब्ध हो जाता है लेकिन नियम व उपनियम आदि उपलब्ध नहीं होते। राज्यों की विधियाँ तो बिलकुल उपलब्ध नहीं हो पातीं। इस कारण राज्य की विधियों से संबंधित विधिक समस्याओं के हल में परेशानी होती है। इन समस्याओं के हल के लिए यह आवश्यक है कि तीसरा खंबा का अपना एक ऐसा विस्तृत ग्रंन्थागार हो जिस में भारत और उस के सभी राज्यों की विधियाँ, नियम और उपनियम उपलब्ध हो सकें। लेकिन यह एक बड़ा काम है जो समय, श्रम और धन तीनों चाहता है। इस आवश्यकता को पूरा करना फिलहाल असंभव है। हमारे साधन सीमित हैं। केवल दो व्यक्ति अपने निवेश, श्रम और बचे हुए समय से इस साइट को चला रहे हैं।

फिर भी हम सोच रहे हैं कि हिन्दी पाठकों के लिए इस एक अकेली अनूठी साइट को किस तरह से बेहतर बनाया जा सकता है। हम पाठकों और मित्रों से भी चाहते हैं कि वे भी अपने सुझाव हमें दें। जिस से इस साइट की उपयोगिता में वृद्धि हो। ऐसा कोई भी सुझाव इसी पोस्ट की टिप्पणियों में अंकित किया जा सकता है।

यह नया वर्ष 2015 ईस्वी सभी पाठकों और मित्रों के जीवन में अनन्त खुशियाँ लाए, इसी शुभकामना के साथ…

आप का …

दिनेशराय द्विवेदी

VN:F [1.9.22_1171]
Print Friendly, PDF & Email

15 टिप्पणियाँ

  1. Comment by योगेन्द्र भाटी, पाली (राजस्थान):

    आदरणीय दिनेश जी
    नव वर्ष की शुभकामनाए
    आपके द्वारा आमजन को निशुल्क कानूनी सलाह प्रदान करने की आपकी भावना को नमन ! इससे असंख्य लोगो को अपनी समस्याओ का समाघान घर बैठे ही मिल रहा है ! धन्यवाद

    VA:F [1.9.22_1171]
  2. Comment by amit:

    सर
    आप को भी नव वर्ष 2015 की हार्दिक शुभ कामना एवं आप के सभी साथियो को भी शुभ कामना सहित धन्याद

    VA:F [1.9.22_1171]
  3. Comment by paresh:

    आपको सर्वप्रथम तो नव वर्ष की शुभकामना तत पश्चात जो कीमती समय निकल कर आप के द्वारा जो कार्य किया जा रहा है उस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    VA:F [1.9.22_1171]
  4. Comment by AK SHUKLA:

    आपके इस सद्प्रयास के लिए हम सभी की शुभकामनाएं..इस अर्थ-युग में आपके द्वारा की जा रही मानवता की सेवा अप्रतिम हैं.. सभी लोग हमेशा आपके आभारी रहेंगे.. एक विशेष निवेदन है.. कई बार अपनी समस्याओं से ग्रस्त व्यक्ति को अपना अथवा सही गलत का बोध नहीं हो पाटा.. इसमें कई बार कई लोग कदाचित रूक्ष भाषा का भी प्रयोग कर लेते होंगे अपनी परेशानी के अंतर्गत.. अतः आपसे करबद्ध निवेदन है की विशाल पर्वत के सदृश ऐसी तिनका सुदृढ़ बातों को आप अपनी करुणा दृष्टी से देखकर तिरोहित कर दें.. बाकी तो दुखी मानव-सेवा के लिए हम लोग आपके सदैव आभारी रहेंगे ही.. धन्यवाद.. 🙂

    VA:F [1.9.22_1171]
  5. Comment by VIVEKKAUSHIK:

    दिवेदी जी.
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये ..
    उम्मीद करता हू की आप २०१५ में भी पाठको का इसी प्रकार मार्गदर्शन करते रहेंगे..आप जैसे नेक व्यक्तित्व के अथक प्रयासों की वजह से बहुत से व्यक्तियों की समस्याओ का समाधान भी हो रहा है..मैं एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हूँ..खुद भुक्त भोगी रहा हु!!
    लोगों का दर्द समझ सकता हूँ हलाकि कई मर्तबा हम खुद ही इस तररह की समस्य्याओ के जिम्मेदार खुद होते है.!! हमारा मेल डोमिनेन्स,हमारा स्वाभाव, इगो इत्यादि हमे समस्या का अंत करने के बजाय उसे बढ़ावा देते है..!!
    आपके उत्तर से दिल को तसल्ली मिलती है तहता जीने का एक नया रास्ता , एक नयी सोच भी मिलती है..इन् सब अथक प्रयासों के लिए आपको दिल से साधुवाद !!
    भगवान आपको दीर्घ आयु, आर्थिक समृद्धि दे , जिससे आप इसी प्रकार समाज में अपना योगदान देते रहे..!!
    भवदीय
    विवेक कौशिक

    VA:F [1.9.22_1171]
  6. Comment by Yash:

    बहुत नेक काम करते हैं आप ..नए साल में भी अबाध गति से साइट चलती रही और लोगों को उनकी समस्यों का समाधान मिलता रहे, यही कामना है ..
    ..आपको सपरिवार नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    VA:F [1.9.22_1171]
  7. Comment by shashikant:

    श्रीमान जी
    सबसे पहले आपको नये साल की ढेर सारी शुभ कामनाऐं ।
    आप ने समाज सेवा का बहुत बड़ा सराहनीय काम किया है इसके लिये मैं आप को दिल से थैंक्स करता Hain

    VA:F [1.9.22_1171]
  8. Comment by प्रीतम:

    श्रीमान जी
    सबसे पहले आपको नये साल की ढेर सारी शुभ कामनाऐं ।
    आप ने समाज सेवा का बहुत बड़ा सराहनीय काम किया है इसके लिये मैं आप को दिल से सल्यूट करता हूँ।
    मैंने आप को 29 तारीख को एक समस्या की सलाह के लिए 2 कॉमेंट भेजे थे। जिनके जवाब मुझे आज तक नहीँ मिले कृपया आप मुझे उनके जवाब भेजें। मैं आप का बहुत आभारी रहूँगा।

    VA:F [1.9.22_1171]
  9. Comment by K.D.Mishra, Advocate, Patna:

    आपको भी सपरिवार नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    VA:F [1.9.22_1171]
  10. Comment by राजबीर सिंह:

    श्रीमान जी
    सबसे पहले आपको नये साल की ढेर सारी शुभ कामनाऐं ।
    आप ने समाज सेवा का बहुत बड़ा सराहनीय काम किया है इसके लिये मैं आप को दिल से सल्यूट करता हूँ।
    मैंने आप को 29 तारीख को एक समस्या की सलाह के लिए 2 कॉमेंट भेजे थे। जिनके जवाब मुझे आज तक नहीँ मिले कृपया आप मुझे उनके जवाब भेजें। मैं आप का बहुत आभारी रहूँगा।

    VA:F [1.9.22_1171]
  11. Comment by vinod kumawat:

    sir, kya ham sab teesra khamba ke pathak is site ko behtar banane ke liye aarthik sahayata nahi kar sakte

    VA:F [1.9.22_1171]
  12. Comment by kavita Rawat:

    बहुत नेक काम करते हैं आप ..नए साल में भी अबाध गति से साइट चलती रही और लोगों को उनकी समस्यों का समाधान मिलता रहे, यही कामना है ..
    ..आपको सपरिवार नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    VA:F [1.9.22_1171]
    • Comment by jugraj dhamija:

      नमस्कार दिर्वेदी जी
      आपको और आपके परिवार को नए साल की बधाई.
      aapki समाज सेवा अति उत्तम है जो हम सबी के बहुत काम आती हम सबी आपके शुक्र गुजर है क आप अपने kimti samay me se samay nikal के ham logo की madad kr rhe है. Hum बी chahte है की हम की kuch madad kr ske और मई आपजी को पर्सनली मिलना बी चाहता हु. Kirpa करके मिलने का तरीका बी btay और आप कोण से शहर स्टेट से है. और apka साथ dene wale जी का बी बहुत dhanywad. 09855049709

      VA:F [1.9.22_1171]
      • Comment by दिनेशराय द्विवेदी:

        जुगराज जी, आप का बहुत बहुत शुक्रिया।
        हर वकील को अपने समय का कुछ हिस्सा आम नागरिकों की विधिक शिक्षा पर लगाना चाहिए, यह उन का कर्तव्य है। सारे वकील इस काम को किसी न किसी रूप में करते हैं। बस हम यहाँ वही प्रयास सार्वजनिक रूप से कर रहे हैं जो कुछ खास नहीं। मैं स्वयं कोटा राजस्थान में निवास करता हूँ। आप कभी भी कोटा पधारें। जरूर मिलना होगा। आप का पता नहीं आप कहाँ रहते हैं। यदि आप के गृहनगर कभी आना हुआ तो वैसे कभी भेंट हो सकती है।
        दिनेशराय द्विवेदी का पिछला आलेख है:–.नरम रह कर क्रूरता का मुकाबला नहीं किया जा सकता।My Profile

        VN:F [1.9.22_1171]
Aids State order Robaxin with cod Utilizing Wilderness Cheap Vermox online Transfusion dermatophytes Order Abilify Colorado Metro medical buying Avodart online from medicine buy Bactrim online uk Teachers GERONTOL order generic Bentyl without a prescription items muscle buy cheap Clonidine without a prescription Medicine local Cheap Indocin online pharmacy Medicine natural Purchase Lisinopril Nevada