पुश्तैनी जमीन में आप का हक है, बँटवारे का वाद संस्थित करें।

VN:F [1.9.22_1171]

समस्या-

वर्षा देवी ने रानीवाड़ा, जालोर राजस्थान से समस्या भेजी है कि-

मैं विवाहित हूँ, हम दो बहन और तीन भाई हैं। पिता भी जीवित हैं। हाल में मेरे पिता के यहाँ रहती हूँ और पिताजी ने मुझे उनकी जमीन पर मकान बंनाने की इजाजत दी थी तो मैं ने उनकी ही जमीन पर मकान बना दिया है और लाइट भी उनके नाम से ही ली थी। मेरे पास में कोई दस्तावेज भी नहीं है। अब मेरे पिताजी और मेरे भाइयो से अनबन चल रही है। मेरे पिता और भाई सब मिल कर मकान खाली करने को बोल रहे हैं और कई बार तो बवाल भी कर् चुके हैँ। अभी मेरी बेटी की 29/6/2017 को शादी थी तो गणेश पूजा के दिन ही सब मेहमानों के सामने घर बुला के मार पीट भी की है, मेरे पति के साथ और पुलिस भी बुलवाई थी फ़ँसाने को। उनकी ये साजिश थी वो नाकाम हो गई। फिर मैंने शादी के बाद पुलिस में रिपोर्ट की मगर कोई कार्यवाही नहीं हुई पैसो के बल पर। मुझे और मेरे परिवार को जान से मारने की भी धमकी देते हैँ।  अब मुझे क्या और कैसे करना होगा जो मेरा परिवार शान्ति से रह पाये। रही बात जमीन की मेरे पिताजी के पिताजी के पिताजी से मिली थी अब मेरे साथ इतना सब कुछ हो गया है सब रिश्तों की हत्या हुई है तब मैंने अपना हक माँगा तो मेरे पिता ने सारी सम्पति मेरे तीन भाइयों को दान पत्र कर दी है और रजिस्ट्री और नामांतरण भी कुछ दिन पहले हो गया है। अब मुझे मेरा हक कैसे मिलेगा कैसे ले सकती हूँ अब मुझे क्या करना होगा कृपिया उचित सलाह दें।

समाधान-

प के पिता की समूची जमीन पुश्तैनी है और उस जमीन में आप का भी हक 2005 से कानून के माध्यम से बन गया है। आप उक्त दानपत्र को चुनौती दे कर निरस्त करवाने की कार्यवाही कर सकती हैं तथा समूची जमीन और उस पर निर्मित संपत्ति के बंटवारे का वाद संस्थित कर सकती हैं। यह वाद संस्थित करने साथ ही आप जिस जमीन पर कब्जे में हैं, मकान बना रखा है उस जमीन पर अपने पिता, तीनों भाई और उन के बच्चों के विरुद्ध आप के कब्जें में दखल देने, धमकाने मारपीट का प्रयास करने आदि के विरुद्ध स्टे प्राप्त कर सकती हैं।

इस के बाद भी पिता या भाई वगैरह धमकी या मारपीट करने जैसी अपराधिक कार्यवाही होने पर पुलिस को रिपोर्ट कर सकती हैं। पुलिस कार्यवाही न करे तो एस पी को शिकायत करें और उस के एक दो दिन में ही न्यायालय में अपना परिवाद प्रस्तुत करें।

 

VN:F [1.9.22_1171]
Print Friendly, PDF & Email

3 टिप्पणियाँ

  1. Comment by Rohit kumar verma:

    Mere Pita ji do bhai hai atah:khandani zameen aur makaan ka vibahajan nayalay ke dwara ho Jane aur hamare hisse par 2010 me hi dakhal kabza court ke Madhyam se police aur magistrate ke samaksh de diya gaya uske baad hamare hisse ki zameen aur makaan ka mutation bhi anchal aur nagar Parishad dwara mere Pita ji ke naam se alag ho gaya lekin virodhi paksh ke log beimaan hai aur hamare makaan ko jabran Tod kar kuch hisse me punah:ghus gaye tatpashat hum police se lekar tamam adhikariyo ke pass gaye sabki jaanch report me hame sahi paya gaya kintu koi bhi karyawahi nahi hui jaha jate hai sabhi bhoomi vivad bata kar taal dete hai hum jaha rehte hai wah kaccha makaan hai aur baarish me sabhi jagah pani tapakta hai aise me hum kya kare kirpya marg darshan kare.

    VA:F [1.9.22_1171]
  2. Comment by AQUIL AHMED:

    क्या ऐसे मामले में मुस्लिमो के लिए भी यही कानून है ? या फिर उनके पर्सनल लॉ कुछ अलग हैं?

    VA:F [1.9.22_1171]
Aids State order Robaxin with cod Utilizing Wilderness Cheap Vermox online Transfusion dermatophytes Order Abilify Colorado Metro medical buying Avodart online from medicine buy Bactrim online uk Teachers GERONTOL order generic Bentyl without a prescription items muscle buy cheap Clonidine without a prescription Medicine local Cheap Indocin online pharmacy Medicine natural Purchase Lisinopril Nevada