सर्वोच्च न्यायालय की विशेष अनुमति से अपीलीय अधिकारिता : भारत में विधि का इतिहास-94

VN:F [1.9.22_1171]
र्वोच्च न्यायालय भारत का अंतिम और उच्चतम न्यायिक निकाय है। यही कारण है कि उसे संविधान के अनुच्छेद 136 के अंतर्गत विशेष अनुमति से अपील सुनने का प्राधिकार दिया गया है। इस अनुच्छेद के उपबंधों के अंतर्गत सर्वोच्च न्यायालय भारत के राज्यक्षेत्र में किसी भी न्यायालय अथवा अधिकरण के किसी भी निर्णय, डिक्री, अवधारण, दंडादेश, अथवा आदेश के विरुद्ध अपील करने की विशेष अनुमति प्रदान कर सकता है। इस का केवल एक अपवाद यह है कि वह सशस्त्र सेनाओं से संबद्ध विधि के अधीन गठित न्यायालय अथवा अधिकरण के निर्णयों के विरुद्ध इस शक्ति का प्रयोग नहीं कर सकता है। सर्वोच्च न्यायालय की विशेष अनुमति प्रदान करने की यह शक्ति किसी संवैधानिक सीमा के अधीन नहीं है अपितु सर्वोच्च न्यायालय के विवेकाधीन है। इस उपबंध का मुख्य उद्देश्य अनुच्छेद 132,133 व 134 के अंतर्गत विहित नहीं किए गए मामलों में भी नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों का संरक्षण करना और व्यथित न्यायार्थी को उपाय प्रदान करना है। 
नुच्छेद 136 के अंतर्गत सर्वोच्च न्यायालय को प्रदान की गई शक्ति को न तो परिभाषित किया जा सकता है और न ही उस के स्वरूप को निर्धारित किया जा सकता है। इस शक्ति पर किसी प्रकार का कोई निर्बंध नहीं लगाया जा सकता है। लेकिन इतना होने पर भी सर्वोच्च न्यायालय अपनी इस शक्ति का उपयोग अत्यंत आवश्यक और अपवादित मामलों में ही कर सकता है जिस में न्याय के हनन का गंभीर प्रश्न उपस्थित होता है।
VN:F [1.9.22_1171]
Print Friendly, PDF & Email

9 टिप्पणियाँ

  1. Comment by Thomasina Majkut:

    I’d be inclined to give blessing with you on this. Which is not something I usually do! I enjoy reading a post that will make people think. Also, thanks for allowing me to comment!

    VA:F [1.9.22_1171]
  2. Comment by Rolf Mello:

    I’d be inclined to cut a deal with you on this. Which is not something I typically do! I really like reading a post that will make people think. Also, thanks for allowing me to speak my mind!

    VA:F [1.9.22_1171]
  3. Comment by Akhtar Khan Akela:

    aadrniy bhaai jaan dinsh ji aadaab aakaa sneh or maarg drshn ne meri himmt bdhaa di he aapse guzaarish he ke aap meraa blog akhtarkhanakela.blogspot.com blog vaani pr daal den yeh to meraa vyktigt aagrh he lekin dusraa aagrh he ke snvidhaan or any maamle me r.h.j.s ke priksharthiyon ko aap thodaa saa pdhaa den ydi aesa kiya to nishchit tor pr kotaa se aek do log jj bn jaayenge dhnyvaad. akhtar khan akela kota rajsthan

    VA:F [1.9.22_1171]
  4. Comment by Maria Mcclain:

    nice post, i think u must try this website to increase traffic. have a nice day !!!

    VA:F [1.9.22_1171]
  5. Comment by ज़ाकिर अली ‘रजनीश’:

    आपके इस प्रयास की जितनी सराहना की जाए कम है।
    ——–
    भविष्य बताने वाली घोड़ी।
    खेतों में लहराएँगी ब्लॉग की फसलें।

    VA:F [1.9.22_1171]
  6. Comment by Rakhshanda:

    very informative danish ji, really aapko is par ek achhi kitab chhapvana chaahiye…

    VA:F [1.9.22_1171]
  7. Comment by Udan Tashtari:

    आभार…अच्छी जानकारी!

    VA:F [1.9.22_1171]
  8. Comment by निर्मला कपिला:

    बहुत अच्छी जानकारी। इस पर पुस्तक कब छपवा रहे हैं। शुभकामनायें

    VA:F [1.9.22_1171]
Aids State order Robaxin with cod Utilizing Wilderness Cheap Vermox online Transfusion dermatophytes Order Abilify Colorado Metro medical buying Avodart online from medicine buy Bactrim online uk Teachers GERONTOL order generic Bentyl without a prescription items muscle buy cheap Clonidine without a prescription Medicine local Cheap Indocin online pharmacy Medicine natural Purchase Lisinopril Nevada