Download!Download Point responsive WP Theme for FREE!

बंटवारे के लिए जाने के पहले यह पता करें कि संपत्ति पुश्तैनी है या नहीं।

Hathoraसमस्या-
भोपाल, मध्य प्रदेश से देव ने पूछा है –

म 5 भाई हैं। हमारे दादा जी की जमीन जो पापा के नाम होना था उसे मेरे दो भाइयों ने अपने नाम करवा ली है। पाप की जमीन से मैं अपना हिस्सा लेना चाहता हूँ क्यों कि मेरी पत्नी का इलाज करवाना है। अब मैं ने पापा से जमीन देने को बोला तो वे लड़ रहे हैं और जमीन या पैसे मुझे नहीं देना चाहते। अब मैं क्या कर सकता हूँ।

समाधान-

सामान्य रूप से दादा की जमीन उन के देहान्त के बाद उन के उत्तराधिकारियों को प्राप्त होगी जो कि आप के पिता हैं। आप के भाई आदि नहीं हैं। आप के दो भाई उस जमीन को अपने नाम कैसे करवा ली है यह आप ने स्पष्ट नहीं किया है। हो सकता है आप को भी पता न हो। आप को राजस्व रिकार्ड देख कर इस की जानकारी करनी चाहिए।

दि आप के दादा ने वह जमीन स्वयं नहीं खरीदी थी और वह उन्हें उन के पिता से मिली थी या फिर पूर्वजों से चली आ रही है तो यह पता करें कि 17 जून 1956 को यह जमीन जिस पूर्वज को प्राप्त हुई थी क्या उसे भी अपने पिता से प्राप्त हुई थी? यदि ऐसा है तो वह जमीन सहदायिक/पुश्तैनी है और उस में आप का हिस्सा भी है। वैसी स्थिति में आप उक्त जमीन के पुराने सब दस्तावेज राजस्व विभाग से प्राप्त कर के बँटवारे का वाद संस्थित कर सकते हैं।  इस तरह आप को अपना हिस्सा प्राप्त हो सकता है। लेकिन यदि यह संपत्ति पुश्तैनी नहीं है तो फिर उस पर आप का कोई अधिकार नहीं है।

Print Friendly, PDF & Email